Home Top Ad

future of network marketing industry in india in Hindi

Share:
दोस्तों आज मैं नेटवर्क मार्केटिंग के फ्यूचर के बारे में बात करने जा रहा हूं इसे डायरेक्ट सेलिंग भी कहा जाता है इंडिया में इसका क्या फ्यूचर है. वैसे तो नेटवर्क मार्केटिंग भारत में काफी सालों से चले आ रहे हैं और यह काफी सफल भी रहा है इसमें भारत में काफी नाम कमाया है. जो लोग नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में नहीं जानते हैं तो उससे मैं बताना चाहूंगा कि यह है क्या और काम कैसे करता है

नेटवर्क मार्केटिंग है क्या

नेटवर्क मार्केटिंग बस कुछ नहीं है सिर्फ वह सिर्फ एक डायरेक्ट सेलिंग है इसका मतलब यह होता है कि कोई भी प्रोडक्ट को दुकान में ना रख कर सीधे कस्टमर को सेल कर देना और इसमें फायदा भी काफी अच्छी होती है जैसे कि कोई नया कंपनी आ रहा है और उसके बहुत सारे नए प्रोडक्ट किया है तो उस प्रोडक्ट को कैसे और कब इस्तेमाल करें कितने बार इस्तेमाल करें यह सब कुछ जो आपको प्रोडक्ट सेल कर रहा है वह आपको यह सारी चीज बताता है. वैसे तो नेटवर्क मार्केटिंग को प्रोडक्ट के प्रमोशन के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है लेकिन बीते कुछ वर्षों में इसे बहुत ही गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया है जिसके वजह से या पूरा इंडस्ट्री खासकर भारत में बुरी तरह से बदनाम हो चुका है. एक समय था जब इसको केवल प्रोडक्ट के प्रमोशन के लिए इस्तेमाल किया जाता था लेकिन अब इसे समान का प्रमोशन कम और बिजनेस ज्यादा बनाया गया है.

यह काम कैसे करता है

जो कोई भी नेटवर्क मार्केटिंग जॉइन करता है उसे जॉइनिंग के टाइम में कुछ पैसा जमा करना पड़ता है और उसके बदले में उसे सामान दिया जाता है दरअसल इसमें होता क्या है क्या अगर आप मेंबर बनते हैं और अपने कुछ सामान भी खरीदा ताकि आप उसको बेच सकें और पैसे कमा सकें. इसके अलावा भी अगर आप ज्यादा पैसे कमाना चाहते हैं तो आपको और भी लोगों को अपने साथ जोड़ना पड़ेगा जैसे कि आपने दो लोगों को जोड़ा तो उसके लिए कुछ कमीशन मिलेगा और उन दो लोगों ने और दो-दो लोगों को जोड़ा तो उसमें भी आपका कमीशन मिलेगा हर कंपनी की अलग-अलग पॉलिसी होती है किसी का दो लोगों का किसी का 4 तो किसी का 8 लोगों को जोड़ना पड़ता है अगर जिसे आप ने जोड़ा वह इंसान अगर उसने ना जोड़ा दूसरा लोगों को तब आपका पैसा आना बंद हो जाएगा इनके सामान ज्यादातर मार्केट के सामान के दाम के हिसाब से थोड़ी सी ज्यादा होती है. अगर कोई यह काम करता है तो उसे घर घर जाकर लोगों को इकट्ठा करना पड़ता है और उन्हें जॉइन करना पड़ता है अपने ग्रुप में.

इन बातों का रखें ध्यान अगर अब नेटवर्क मार्केटिंग जॉन करते हैं तो

जानता नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियां सामान को कम महत्व देती है जो भी इसमें उस कंपनी में ज्वाइन होता है उसे सपने दिखाए जाते हैं फॉरेन टूर का अगर आप इतने मेंबर ज्वाइन कराते हैं अपने ग्रुप में तो आपको हम मलेशिया सिंगापुर इटली जर्मनी ऑस्ट्रेलिया लंदन अंटार्कटिका श्री लंका चाइना जापान थाईलैंड भेजेंगे. इस कंपनी मैं ज्यादातर लोगों को रातो रात अमीर बनने के सपने दिखाए जाते हैं शाम को अगर आप ज्वाइन करते हैं तो वह कहते हैं कि आप कैसे पार्ट टाइम के तौर पर करिए. सबसे पहले तो आप अपने फैमिली मेंबर्स को ज्वाइन करवाइए और उसके बाद अपने रिश्तेदारों को इससे आपका जल्दी नेटवर्क बढ़ेगा और आपका कमीशन में भी बहुत ज्यादा बढ़ोतरी होगी.

दोस्तों आप इन बातों का तो जरूर ध्यान रखें नेटवर्क मार्केटिंग जातर कॉलेज के स्टूडेंट को ज्यादातर पकड़ते हैं और उन्हें सपने दिखाते हैं . और अगर आप इस बिजनेस को करते हैं तो इतना तो गारंटी है कि आपके दोस्त और आपके रिश्तेदारों और आपके फैमिली पड़ोसी मैं जल्दी ही दरार आने निश्चय है. अगर आप इस चीज को करे तो आपके पढ़ाई में काफी दिक्कत भी आ सकती है इस काम को करने से ज्यादा लोग टेंशन में भी आ जाते हैं. सच बात तो यह है कि जो लोग ऊपर में बैठे रहते हैं उनका ज्यादा फायदा होता है जो नीचे लेवल पर काम करते हैं उन्हें तो समय और पैसा का बहुत बड़ा नुकसान होता  है

उसका फ्यूचर क्या है

एक बात मैं आपको बता दूं कि नेटवर्क मार्केटिंग तभी सफल हो पाएगा जॉब उसके खुद के सामान मार्केट में सबसे कम दाम में मिले और सबसे अच्छी क्वालिटी के मिले क्योंकि अभी के जमाने में लोग जाते मार्केट से सामान खरीदना पसंद करते हैं और अभी तो टीवी में अभी भी ऐड करते हैं और आपने देखा होगा कि कोई भी इंसान अगर नेटवर्क मार्केटिंग कब प्रोडक्ट खरीदना है अगर वह अच्छा नहीं निकलता है तो तो दुबारा उसे नहीं खरीदता है और ग्राहक को ठगी महसूस होने लगता है एक तो उसने सामान के दाम ज्यादा भी दिए और उसमें क्वालिटी भी नहीं थी तो वह दोबारा क्यों कर देगा उस समान को.
एक जमाना था जब इंटरनेट था ही नहीं भारत में तब या नेटवर्क मार्केटिंग भारत में खूब अच्छी तरह से फूल फल रहा था लेकिन अब इंटरनेट का जमाना आ गया है जाकर इंसान सामान खरीदने से पहले उसका इंटरनेट में अच्छी तरह से रिसर्च कर लेता है उसके बाद वह खरीदता है मेरे हिसाब से नेटवर्क मार्केटिंग भारत में ज्यादा दिन तक चलने वाला नहीं है बहुत सारी कंपनी में आई और बहुत जल्दी ही बंद हो गई क्योंकि उनके सामान में खराबी थी और उनके दाम भी काफी ज्यादा थे एक बार अगर किसी कंपनी का नाम गिर जाता है तो उसे दोबारा उठना नामुमकिन सा हो जाता है. 2050 साल तक नेटवर्क मार्केटिंग का भारत से पूरी तरह से सफाया हो जाने वाला है.


No comments